माड़साब के लिए माँ-पिताजी की पहली चिट्ठी

माड़साब के लिए माँ-पिताजी की पहली चिट्ठी माड़साब, आपको उन बच्चों के माता-पिता की तरफ से नमस्ते जो सिर्फ आपके विद्यालय के लिए ही जन्में...

बसेड़ा के बच्चे अब पढ़ेंगे महान लोगों की आत्मकथाएँ

बसेड़ा के बच्चे अब पढ़ेंगे महान लोगों की आत्मकथाएँ

प्रतापगढ़ जिले की छोटी सादड़ी तहसील में स्थित राजकीय आदर्श उमावि बसेड़ा में चौदह जुलाई का दिन हिंदी क्लब गठन के नाम रहा। देहाती इलाके में इस तरह की साहित्यिक गतिविधि को लेकर स्कूल और विद्यार्थियों में बहुत उत्साह है। स्कूल के कार्यवाहक प्रधानाचार्य प्रभु दयाल कुड़ी के निर्देशन और हिंदी व्याख्याता माणिक के संयोजन में पच्चीस विद्यार्थियों का एक समूह बनाया गया है जिसमें साहित्यिक पत्र पत्रिकाओं सहित स्कूल में उपहार के रूप में प्राप्त पुस्तकों का समन्वयन छात्र चेनराम मीणा देखेगा। गठन के बाद सबसे पहले हिंदी साहित्य पढ़ने वाले पच्चीस छात्रों को प्रतिनिधि कहानीकारों के कहानी संग्रह दिए गए ताकि पाठकीयता विकसित हो सके। इस मौके पर ज़िला कलेक्टर अजमेर गौरव गोयल और अजमेर नगर निगम सहायक आयुक्त ज्योति काकवानी की मदद से अजमेर में संचालित बुक बैंक की तरफ से बसेड़ा के बच्चों को उपहार में मिली दो दर्जन आत्मकथाएं भी बाँटी गयी। इस तरह अब बसेड़ा के बच्चे महात्मा गांधी, स्वामी विवेकानंद, बैंजामिन फ्रैंकलिन, एपीजे अब्दुल कलाम, हेलन किलर की आत्मकथाओं सहित प्रेक प्रसंग संग्रह पढ़ेंगे। 

वरिष्ठ अध्यापक बी एल मीणा ने बताया कि लाभान्वितों में बीते वर्ष सर्वाधिक अंक हासिल करने वाले, सबसे स्वच्छ बालक-बालिका, विद्यालयी दैनिक गतिविधियों में बढ़चढ़कर हिस्सा लेने वाले छात्र जैसे दीपिका आँजना, एकिन मेघवाल, सोना सुथार, पवन आँजना, बबली धोबी, पुष्कर आँजना, दीपक धोबी, अर्जुन मेघवाल, कारू लाल आँजना, पंकज मीणा, नितेश भील, निकिता मेघवाल, रानू मीणा, किशन भील, चर्चिता तिवारी, अल्का लौहार, टमा सेन, आतीश मीणा शामिल थे।

अध्यापक कैलाश माली और मथुरा लाल रेगर के निर्देशन में इस अवसर पर प्राथमिक कक्षाओं के बच्चों में साहित्य के प्रति रूचि जगाने के लिए चम्पक, बाल भारती, नंदन, चकमक, लोटपोट जैसी कई बाल पत्रिकाओं का भी वितरण किया गया। समारोह का संचालन इतिहास के व्याख्याता प्रेमा राम कुमावात और अध्यापक जगदीश सेंगर ने किया। अंत में आभार अध्यापक रमन गेहलोत ने व्यक्त किया।

बसेड़ा की डायरी,14 जुलाई, 2017

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें

Follow by Email