'टेंशन फ्री सेटरडे इन बसेड़ा'

'टेंशन फ्री सेटरडे इन बसेड़ा' साल दो हज़ार से अध्यापक हूँ और लगातार नित नए प्रयोग का आदि हूँ। तेईस जून 2017 से अब तक में...

समाचारों में बसेड़ा

प्रेस विज्ञप्ति
हिंदी में अपनापन बसता है-रमेश शर्मा
हिंदी हमारी राष्ट्रीय सम्पर्क भाषा है-महेंद्र प्रताप गर्ग 
बसेड़ा में हुई हिंदी दिवस केन्द्रित कई प्रतियोगिताएं

बसेड़ा(छोटी सादड़ी) 14 सितम्बर, 2017
हिंदी एक ऐसी भाषा है जिसमें हमें अपनापन अनुभव होता है। एक इंसान को जीवन में जितना संभव हो अधिकाधिक भाषाएँ सीखनी चाहिए और खासकर अपनी शुरुआती शिक्षा तो मातृभाषा में ही लेनी चाहिए। आजकल अभिभावकों में अंगरेजी स्कूल और अंगरेजी भाषा को लेकर अभिजात्य होने का भाव महसूसा गया है मगर असल में बच्चे गलतफहमी के शिकार होकर न हिंदी के रह पाते हैं न अंगरेजी के बन पाते हैं। अंगरेजी रोज़गार की भाषा है मगर हिंदी हमारी अपनी भाषा है जिसमें हिंदुस्तानियत की खुशबू आती है। हिंदी को तरज़ीह इसलिए दी जानी चाहिए क्योंकि यह हमारी राजभाषा भाषा है इसे आदर देने का यह अर्थ कतई नहीं है कि हम अंगरेजी से नफरत करें

यह विचार बसेड़ा हिंदी क्लब द्वारा छोटी सादड़ी स्थित राजकीय आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय बसेड़ा में हिंदी दिवस के आयोजन में बतौर अतिथि अज़ीम प्रेमजी फाउंडेशन के रमेश शर्मा ने व्यक्त किए। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए प्रधानाचार्य महेंद्र प्रताप गर्ग ने कहा कि बीते दो दशक में हिंदी का बहुत तेज़ी से विकास हुआ है और आज हिंदी हमारे देश की राष्ट्रीय सम्पर्क भाषा के रूप में पहचान बन चुकी है। आज के इंटरनेट प्रधान युग में तमाम सोसियल नेटवर्किंग साईट और पोर्टल लगातार हिंदी में अपनी सेवाएं विकसित कर रहे हैं। हिंदी का बाज़ार बड़ी तेज़ी से विस्तार ले रहा है। अगर हम ठीक से जानकारी लें तो पाएंगे कि आज विश्वभर में हिंदी के बूते कई नए रोज़गार भी संभव हो पा रहे हैं। 

अज़ीम प्रेमजी फाउन्डेशन की प्रतापगढ़ इकाई के साथी विष्णु शर्मा और चित्तौड़गढ़ इकाए के रमेश शर्मा के निर्देशन में बसेड़ा हिंदी क्लब के इस आयोजन में शुरुआत सवेरे संगीतमयी प्रार्थना सत्र के साथ हुई जिसमें सर्वेश्वर दयाल सक्सेना की प्रसिद्द कविता इब्नबतूता का पाठ हुआ। बाद में प्राथमिक कक्षाओं के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार प्राप्त फिल्म छुटकन की महाभारत की स्क्रीनिंग की गयी। उच्च माध्यमिक कक्षाओं के लिए कहानी पूरी करो और हिंदी के माध्यम से करिअर जैसे विषय पर संवाद सम्पन्न हुए। दोपहर बाद विद्यार्थियों ने हिंदी के लोकप्रिय रचनाकारों और प्रसिद्द रचनाओं पर केन्द्रित पोस्टर प्रदर्शनी लगाई जिसे सभी ने बहुत सराहा। स्कूल के लिए इस तरह का यह पहला आयोजन था। समारोहपूर्वक हुई प्रस्तुतियों में वरिष्ठ अध्यापक भैरू लाल मीणा और सांस्कृतिक आयोजन प्रभारी जगदीश सेंगर ने सभा को संबोधित किया सम्पन्न विभिन्न प्रतियोगिताओं में पोस्टर बनाओ स्पर्धा में प्रथम ममता मीणा, द्वितीय अर्जुन मेघवाल, तृतीय स्थान पर सुनीता मेघवाल और टमा नाई रही। विभिन्न समसामयिक मुद्दों पर आशु भाषण में पहले तीन स्थान पर क्रमश दीपक ढोली, ममता आंजना, गुणवंत मेघवाल रहे वहीं स्वरचित कविता और पुस्तक समीक्षा में पहले तीन स्थान पर कृष्णा मीणा, कोमल आंजना, बबली धोबी और अर्जुन मेघवाल रहे। आखिर में सभी को अतिथियों ने पारितोषिक दिए। सञ्चालन बसेड़ा हिंदी क्लब संयोजक माणिक ने किया

माणिक
संयोजक,बसेड़ा हिंदी क्लब
--------------------------------------------------------------------------
प्रेस विज्ञप्ति
बसेड़ा में आरोहण बैंड की प्रस्तुति और शिक्षक दिवस पर नुक्कड़ नाटक 
बसेड़ा में हुई करिअर केन्द्रित कार्यशाला

बसेड़ा(छोटी सादड़ी) 7 सितम्बर, 2017
राजकीय आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय बसेड़ा में शिक्षक दिवस केन्द्रित कई आयोजन हुए जिनसे विद्यालय में पाठ्य सहगामी गतिविधियों के लिए स्पेस बढ़ा है। बीते पांच सितम्बर को देशभर में समारोहपूर्वक मनाए गए शिक्षक दिवस का एक अनोखा रंग बसेड़ा में भी उकेरा गया। बसेड़ा हिंदी क्लब के आमंत्रण पर चित्तौड़गढ़ से आरोहण म्यूजिकल बैंड और रीडर्स कोर्नर नामक समूह के कई साथी बसेड़ा आए। विद्यालय के प्रथम सहायक प्रभु दयाल कूड़ी ने बताया कि ग्रामीण परिवेश में नवाचार और ऐसी उत्साहवर्धक गतिविधियाँ यहाँ के युवाओं में प्रेरणा जगा रही है। परिणाम आने में कुछ वक़्त लगेगा मगर आशाजनक बात यह है कि बसेड़ा के विद्यार्थी बढ़ चढ़कर हिस्सेदारी कर रहे हैं

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मोत्सव के मौके पर दसेक स्कूली बच्चों ने हेड बॉय अर्जुन मेघवाल के निर्देशन में पुष्कर आंजना, विपुल मीणा आदि ने विभिन्न अध्यापकों की भूमिका निभाकर कक्षाओं का संचालन किया रीडर्स कोर्नर चित्तौड़गढ़ के संयोजक और सेन्ट्रल एकेडमी स्कूल के अर्थशास्त्र व्याख्याता महेंद्र नंदकिशोर ने कक्षा नौ से बारहवीं के विद्यार्थियों के साथ एक करिअर केन्द्रित कार्यशाला का आयोजन किया। महेंद्र ने कई कहानियां सुनाई और कुछ सफल लोगों के प्रेरक प्रसंग साझा किए जिनमें पिकासो, सुंदर पिच्चई, बिल गेट्स और माउंटेन गर्ल पूर्णा शामिल हैं। उन्होंने कहा कि हम किस तरह बिना किसी पर निर्भर रहे अपना लोहा मनवा सकते हैं यह हमें महान लोगों से सीखना चाहिए। गाँवो में बच्चों की एक ही समस्या है वो है अपने आप को कमतर आँकते हैं जबकि ऐसा नहीं होना चाहिए। वो यह समझ पाने में असमर्थ जान पड़ते हैं कि जितना अंग्रेजी बोलना ज़रूरी है उतना ही जरुरी है नि:स्वार्थ स्वयंसेवा करना है ग्रामीण भारत में सबसे बड़ी अच्छाई यह है कि संसाधनों की कमी के बावजूद बच्चे मेहनत करना चाहते हैं और बुलंदियों के सपने देखते हैं

इसी अवसर पर रीडर्स कोर्नर के शैलेश छत्रपाल, नजमुल हसन और प्रांजल दवे ने स्वच्छ भारत अभियान की थीम पर एक नुक्कड़ नाटक खेला जिसे सदन ने बहुत सराहा। स्कूली बच्चों के सहयोग से हुए इस मंचन ने आयोजन को ऊंचाई दी। दोपहर बाद हुए समारोह में स्कूली शिक्षकों सहित आगंतुक अतिथियों का श्रीफल, कुंकुम, लच्छा और उपहार भेंट करके छात्रा ममता मीणा, दीपिका आंजना और कोमल आंजना ने अभिनन्दन किया गया। आयोजन में निम्बाहेड़ा तहसील स्थित पायरी स्कूल के हिंदी व्याख्याता पवन चौधरी विशिष्ट अतिथि थे। साहित्यिक उद्बोधन में छात्रा बबली धोबी, इतिहास व्याख्याता प्रेमाराम कुमावत ने विचार व्यक्त किए वहीं चर्चिता तिवारी ने अब्राहम लिंकन का वह प्रसिद्द पत्र पढ़ा जो उन्होंने ने अपने बच्चे के शिक्षक को लिखा था। वहीं बाद में आरोहण ग्रुप के संयोजक आसिफ़ और सह संयोजक हेमंत सालवी के निर्देशन में सांस्कृतिक कार्यक्रम हुआ जिसमें उनकी टोली ने कई फ़िल्मी, गैर फ़िल्मी और प्रेरणापरक गीत सुनाए कि आयोजन म्यूजिकल बन पड़ा। देर तक बच्चे झूमते और लयबद्ध तालियाँ बजाते हुए आनंदित नज़र आएआरोहण बैंड में गायिका दिविशा, गायक साजन भाट, पुनीत ओझा ,गिटारिस्ट विपिन जैन, ड्रमर दिलीप जोशी, सन्नी, साउंड प्रबंधक जुनैद शैख़ और समन्वयक पायल पुरोहित शामिल थी। देहाती इलाके में इस तरह की बैंड प्रस्तुति ने अलग ही रंग जमाया। शिक्षक दिवस केन्द्रित इन आयोजन का संचालन बसेड़ा हिंदी क्लब संयोजक माणिक और छात्र दीपक धोबी ने किया। हिंदी क्लब का आगामी आयोजन चौदह सितम्बर को हिंदी दिवस के रूप में होगा

माणिक
संयोजक,बसेड़ा हिंदी क्लब
----------------------------------------------------------------------------------------------------------
प्रेस विज्ञप्ति
बसेड़ा में रक्षाबंधन केन्द्रित दीवार पत्रिका का विमोचन

बसेड़ा(छोटी सादड़ी) 8 अगस्त, 2017

राजकीय आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय बसेड़ा के विद्यार्थियों ने हिंदी क्लब के निर्देशन में आठ अगस्त को एक दीवार पत्रिका तैयार की बसेड़ा हिंदी क्लब संयोजक माणिक ने बताया कि यह पत्रिका रक्षाबंधन जैसे मैत्री प्रधान त्यौहार पर केन्द्रित रखी गयी थी। कक्षा नौ से ग्यारह तक के स्कूली छात्र-छात्राओं ने इसे बीते तीन दिन में पूरे उत्साह के साथ तैयार किया विद्यालय में साहित्यिक माहौल निर्माण की दिशा में यह एक और नया कदम समझा जाना चाहिए जहां बच्चों ने पहली दफा दीवार पत्रिका के कोंसेप्ट पर काम किया है जहां एक तरफ अध्यापक जगदीश सेंगर के सानिध्य में बच्चों ने राखियों के कॉलाज बनाने के साथ-साथ फूल और पत्तियों की सजावट से पत्रिका को आकर्षक रूप दिया वहीं पुराने आमंत्रण पत्रों और अनुपयोगी कतरन से कई रंगीन ग्रीटिंग कार्ड्स बनाकर भी प्रदर्शित किए गए पूर्ण रूपेण रंगीन, गीत, कविता लेखन और चित्रकारीमय होने से यह पत्रिका प्राथमिक स्तर के बच्चों को भी बहुत रुची 

विमोचन के मौके पर बच्चों को भाई बहिन के इस पर्व पर केन्द्रित व्याख्यान भी सुनाया गया उन्हें आपसी रिश्तों में कम होती उष्मा के परिणाम पर चिंतन करने को भी प्रेरित किया गया भौतिकता की अंधी दौड़ में मानवीय संबंधों में पैदा हो रहे नए समीकरणों को समझने की ज़रूरत व्यक्त की गयी दीवार पत्रिका निर्माण में चर्चिता तिवारी, कोमल आंजना, पूजा प्रजापत, जीवन शर्मा, पवन आंजना, विपुल मीणा, मनीषा आंजना, अलका लोहार, ममता आंजना ने अहम् भूमिका निभाई अगली दीवार पत्रिका स्वाधीनता दिवस पर केन्द्रित रखी जाएगी 

माणिक
संयोजक,बसेड़ा हिंदी क्लब
-------------------------------------------------------------------------

प्रेस विज्ञप्ति
बसेड़ा में मनाई गयी मुंशी प्रेमचंद जयंती 
रचना पाठ और लघु पत्रिका प्रदर्शनी का आयोजन 


बसेड़ा(छोटी सादड़ी) 31 जुलाई, 2017

छोटी सादड़ी तहसील स्थित राजकीय आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय बसेड़ा में बीते माह स्थापित हिंदी क्लब ने इकतीस जुलाई को अपना पहला साहित्यिक आयोजन मुंशी प्रेमचंद जयंती के रूप में मनाया। बसेड़ा हिंदी क्लब के सूत्रधार चेनराम मीणा और सह संयोजक आतीश मीणा ने बताया कि हिंदी के सर्वाधिक लोकप्रिय और प्रगतिशील लेखक कथा सम्राट प्रेमचंद को याद करते हुए छात्र अर्जुन मेघवाल और गुणवंत मेघवाल ने कहा कि पूरी सचाई और बेबाकी के साथ लिखने वालों की सदैव कमी रही है ऐसे में यथार्थ को ठीक से उकेरने वाले प्रेमचंद के लेखन में हमें गरीब, गाँव और खेतिहर मजदूर सहित किसान सदैव अनुभव हुए हैं प्र्मेचंद ने वंचितों और स्त्री पक्ष के संघर्ष को बहुत गहराई से महसूसने के बाद गोदान और प्रेमाश्रम सहित दर्जनभर उपन्यास और लगभग तीन सौ कहानियां रची। कफ़न और पूस की रात जैसी कहानियां इसी पीड़ा की उपज है इसी तरह छात्रा बबली धोबी, खुशांकी तिवारी, अलका लौहार, टमा सेन, काजल कहार, ममता आंजना, सोनिया मीणा में से किसी ने हाल में पढ़ी साहित्यिक पुस्तकों के अनुभव साझा किए तो किसी ने सफ़दर हाश्मी, विनय महाजन, दुष्यंत कुमार, अदम गोंडवी, पाश के लिखें जनगीतों का सरस पाठ किया 

इस अवसर पर विद्यालय में वरिष्ठ अध्यापक बी.एल.मीणा और जगदीश सेंगर के निर्देशन में एक लघु पत्रिका प्रदर्शनी भी लगाई जिसे सभी ने बहुत सराहा  दर्शकों ने देशभर से निकलने वाले इन प्रकाशनों की बारीकी से जानकारी भी ली  देहाती क्षेत्र में यह प्रदर्शनी एकदम नयी तरह का आकर्षण बन पड़ी प्रदर्शनी में हिन्दी भाषा की पच्चीस से भी अधिक पत्रिकाओं के नवीनतम अंक प्रस्तुत किए गए आयोजन में बतौर अतिथि राउप्रावि हडमतिया कुण्डाल के संस्था प्रधान बिरदी चंद सेन और महीनगर संस्था प्रधान निर्मला पाटीदार ने शिरकत की इतिहास व्याख्याता प्रेमा राम कुमावत के सानिध्य में छात्रा पूजा प्रजापत, ममता आंजना, दीपक धोबी और कोमल आंजना ने मुंशी प्रेमचंद केन्द्रित एक कॉलाज रचा जिसमें उनके जीवन और कृतित्व को पोस्टर्स सहित मांडनों से सझाया गया कॉलाज को भी सभी ने बहुत सराहा अतिथियों द्वारा इस बीच बसेड़ा हिंदी क्लब के दस नए और रुचिशील विद्यार्थी सदस्यों को कहानियों की पुस्तकें वितरित की गयी 

इस मौके पर कार्यवाहक संस्था प्रधान प्रभुदयाल कूड़ी ने अपने उद्बोधन में कहा कि वक़्त की रफ़्तार के हिसाब से स्कूली और खासकर ग्रामीण क्षेत्र के विद्यार्थियों को अपनी क्षमताओं के विकास पर ज्यादा ध्यान देना होगा प्रतिभा सभी के भीतर होती है बस उन्हें मौक़ा मिलने की देरी है। विद्यालय की साहित्यिक सांस्कृतिक गतिविधियाँ सभी के लिए खुला मंच हैं इनका भरपूर उपयोग किया जाना चाहिए आयोजन का संचालन क्लब के संयोजक माणिक ने किया अंत में आभार छात्र पुष्कर आंजना और कारू लाल आंजना ने दिया 

माणिक
संयोजक,बसेड़ा हिंदी क्लब




-----------------------------------------------------------------------------------------------
प्रेस विज्ञप्ति
बसेड़ा के बच्चे अब पढ़ेंगे महान लोगों की आत्मकथाएँ
हिंदी क्लब का गठन और साहित्यिक पुस्तकों का वितरण

बसेड़ा(छोटी सादड़ी) 14 जुलाई, 2017

प्रतापगढ़ जिले की छोटी सादड़ी तहसील में स्थित राजकीय आदर्श उमावि बसेड़ा में चौदह जुलाई का दिन हिंदी क्लब गठन के नाम रहा। देहाती इलाके में इस तरह की साहित्यिक गतिविधि को लेकर स्कूल और विद्यार्थियों में बहुत उत्साह है। स्कूल के कार्यवाहक प्रधानाचार्य प्रभु दयाल कुड़ी के निर्देशन और हिंदी व्याख्याता माणिक के संयोजन में पच्चीस विद्यार्थियों का एक समूह बनाया गया है जिसमें साहित्यिक पत्र पत्रिकाओं सहित स्कूल में उपहार के रूप में प्राप्त पुस्तकों का समन्वयन छात्र चेनराम मीणा देखेगा। गठन के बाद सबसे पहले हिंदी साहित्य पढ़ने वाले पच्चीस छात्रों को प्रतिनिधि कहानीकारों के कहानी संग्रह दिए गए ताकि पाठकीयता विकसित हो सके। इस मौके पर ज़िला कलेक्टर अजमेर गौरव गोयल और अजमेर नगर निगम सहायक आयुक्त ज्योति काकवानी की मदद से अजमेर में संचालित बुक बैंक की तरफ से बसेड़ा के बच्चों को उपहार में मिली दो दर्जन आत्मकथाएं भी बाँटी गयी। इस तरह अब बसेड़ा के बच्चे महात्मा गांधी, स्वामी विवेकानंद, बैंजामिन फ्रैंकलिन, एपीजे अब्दुल कलाम, हेलन किलर की आत्मकथाओं सहित प्रेक प्रसंग संग्रह पढ़ेंगे। 

वरिष्ठ अध्यापक बी एल मीणा ने बताया कि लाभान्वितों में बीते वर्ष सर्वाधिक अंक हासिल करने वाले, सबसे स्वच्छ बालक-बालिका, विद्यालयी दैनिक गतिविधियों में बढ़चढ़कर हिस्सा लेने वाले छात्र जैसे दीपिका आँजना, एकिन मेघवाल, सोना सुथार, पवन आँजना, बबली धोबी, पुष्कर आँजना, दीपक धोबी, अर्जुन मेघवाल, कारू लाल आँजना, पंकज मीणा, नितेश भील, निकिता मेघवाल, रानू मीणा, किशन भील, चर्चिता तिवारी, अल्का लौहार, टमा सेन, आतीश मीणा शामिल थे।

अध्यापक कैलाश माली और मथुरा लाल रेगर के निर्देशन में इस अवसर पर प्राथमिक कक्षाओं के बच्चों में साहित्य के प्रति रूचि जगाने के लिए चम्पक, बाल भारती, नंदन, चकमक, लोटपोट जैसी कई बाल पत्रिकाओं का भी वितरण किया गया। समारोह का संचालन इतिहास के व्याख्याता प्रेमा राम कुमावात और अध्यापक जगदीश सेंगर ने किया। अंत में आभार अध्यापक रमन गेहलोत ने व्यक्त किया।

माणिक
संयोजक,हिंदी क्लब




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें

Follow by Email